मंगलवार, 26 मई 2015

व्यंग्य – आप तो सुपरमैंन हैं साब


व्यंग्य – आप तो सुपरमैंन हैं साब

कौन कहता है आप दबंग नहीं है | आप तो सुपरमैन हैं साब | आप ऐसे कारनामे करते हैं कि लोग दांतों तलेअंगुली दबा लेते हैं | आप क्या नहीं कर सकते | मर्यादा को टाक पर रख सकते हैं मानवता का मर्डर भी कर सकते हैं |
  साब आप ही तो हैं , जिनके सामने मानव समाज सर झुकाता है | क्यों न झुकाए | गाँव की गरीब भोली भाली लड़कियों को अपने मोह जाल में ऐसे फंसाते हैं | अगर इस युग में कृष्ण भगवान होते तो गोपियाँ उन्हें छोड़ आपके संग प्रेम लीला रचाना शुरू कर देती |
  साब आपने नारी उध्दार में जो काम किया है ,  उसे प्रदेश सदैव याद रखेगा |
  समाजसेवा आपका धर्म है और कर्म भी | इउसी कर्मकांड के तहत आपने गाँव कि कमसिन छोरियोंको रोजगार दिलाने के बहाने महानगरों, नगरों के कोठे तक पहुचाया | आखिर कोठा भी व्यवसाय का क्रन्द्र है | इस बेरोजगारी के माहेल में आप जो कार्य कर रहे हैं सदैव स्मरणीय रहेगा \ आपको इस महानता के लिए शत-शत नमन |
 विधवा उद्धार में भी आप सदैव अग्रणी रहे हैं और आज भी लगे हैं | आज आपके प्रम्जाल में फंसी सीधी- साडी कितनी ही विधवाएं आपकी रखैल का जीवन जी रही हैं और उनकी संपत्ति आपके नाम |
  यायुं कहे कि पति हमेशा परमेश्वर होता है | परमेश्वर के चरणों में अपना सबकुछ अर्पण करने पर ही दासी के जीवन का उद्धार होता है | जिसने औरों के बहकावे में आकर आपसे बगावत कि, आपने उन्हें ठिकाने लगाया | सीधे अर्थों में नरक का द्वार दिखाया | जहां सबूत के नाम पर हड्डी-पसली भी नहीं मिली |
  साब आपने मनारेगा में अफसरों , सरपंच , सचिवों को पटाकर जो घोटाले कर दिखाया , उससे तो सरकार तक को पसीना आ गया था | सड़क निर्माण में उचित सामग्री के स्थान पर सड़क से सटे खेतों कि मिटटी डलवा दी थी आपने | मुर्दों को जाब कार्ड थमाकर साड़ी राशि इस प्रकार डकारी कि उसकी आवाज तक नहीं आयी |
     शासकीय भवनों के निर्माण में तो आप सीमेंट नाम के लिए काम में लाते हैं , ताकि पक्के की सनद बनी रहे | वाह! साब वाह! छूना लगाना  कोई आपसे सीखे |
   चुनाव वगैरह में फर्जी वोटिंग व् बूथ केप्चरिंग तो आपके लिए ताश के पत्ते फेंटने जैसा खेल है |
  साब आप रईस हैं | लक्ष्मी आपके द्वार पहरा देती है पर आप बी.पी.एल. श्रेणी में आते हैं | यूँ तो कई अधिकारियों ने आपको इ,पी.एल. श्रेणी में लाने का प्रयास किया पर उनकी कलम लाल रेखा खीचने में काँप गयी |

 नए नवेले अफसर आपके रुतवे को शुरू में समझते नहीं | बाद में पछताकर आपके सामने हाथ जोड़कर खड़े हो जाते हैं |
‘ साब, सूना है आप अपना प्राइवेट अस्पताल खोलने जा रहे हैं | नेक इरादे के लिए धन्यवाद | आपके अस्पताल गरीबों के उद्धार का सपना होगा पर परमोधर्म के तहत अमीरों का उद्धार अवस्य करेंगे | कारण नोट उन्हीं कि जेब से निकलते हैं | गरीब लोग तो फटा थैला लेकर पहुँच जाते हैं | ज्यादा हुआ तो हजार – दो हजार साथ में | इत्ते तो आपके अस्पताल में घुसते ही ठुक जायेंगे | और दवाई, गोलियां? वह उनका बाप खरीदकर देगा उन्हें |
  हाँ यह अलग बात है कि आप गरीबों के हित में अपने अस्पताल में कुछ सरकारी योजनाओं को लागू करवा लें ... पर वे सब हाथी के दांत ही रहेगीं | वैसे भी गरीब – गुरबा तो अस्पताल में टंगी आपकी फोटो देखकर मरीज सहित चम्पत ही जाएंगे इसलिए उनका अस्पताल में आने का व् उन्हें भगवाने का आपको ज़रा भी टेंशन नहीं रहेगा |
 साब आगे हम क्या कहें | अगर आपका चरित मानस लिखने बैठें तो रामचरित मानस कि मोटाई के दर्जन मानस तैयार हो जाएंगे | उपरोक्त विशेषताएं तो हमने अनजान जनता  को सनद रखने के लिए लिख मारी फिर आपकी जैसी आज्ञा ,हम वैसा करने को तैयार हैं |
          सुनील कुमार ‘’सजल’’

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपका ब्लॉग हास्य-व्यंग्य श्रेणी में शामिल कर लिया गया है.
    शुभकामनाओं सहित,
    Sanjay Grover संजय ग्रोवर

    http://samvadjunction.blogspot.in/

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जयंती - प्रोफ़ेसर बिपिन चन्द्र और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन जयंती - प्रोफ़ेसर बिपिन चन्द्र और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    जवाब देंहटाएं